धोनी की 100वीं जीत में जडेजा ने भी लगाया अपना सैकड़ा,

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2019 का 25वां मैच जब होने जा रहा था, तब सभी का ध्यान धोनी की सौंवी आईपीएल जीत पर था. इस मैच में रोमांच के कई उतार चढ़ाव रहे. इस लिहाज से कहा जाए कि यह आईपीएल में अब तक का सबसे रोमांचक मैच था तो यह कहना गलत न हो. फिर भी यह भी एक सच ही है कि कहना वाकई मुश्किल है कि अब तक हुए मैचों में सबसे रोमांचक मैच कौन सा था. राजस्थान-चेन्नई मैच के रोमांचक सफर के दौरान रवींद्र जडेजा ने आपीएल में अपने सौ विकेट पूरे किए.

जडेजा के नहीं धोनी के इस रिकॉर्ड की थी चर्चा

टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने के धोनी के फैसले ने जडेजा को वह मौका दे दिया था कि वे अपने इस रिकॉर्ड को अंजाम दे दें. मैच के पहले जडेजा के इस रिकॉर्ड के बजाए धोनी के उस रिकॉर्ड की चर्चा थी कि वे तब तक आईपीएल में अपनी कप्तानी में 99 मैच जीत चुके थे. इस मैच में जीत उनके सैकड़े को पूरा करने वाली थी. वहीं ज़डेजा भी अपने 100वें आईपीएल विकेट से दो विकेट दूर थे. सभी को उम्मीद थी की चेन्नई को राजस्थान की टीम अपने ही घर में कड़ी टक्कर देगी.

अच्छी शुरुआत के बाद दबाव में आया राजस्थान

पहले तीन ओवर में रहाणे और जोस बटलर ने राजस्थान को जो शुरुआत दी उससे चेन्नई के लिए मैच मुश्किल ही होता दिखा. फिर चौथे ओवर में जोस बटलर अपनी टीम का स्कोर 50 रन तक पहुंचाने ही वाले थे कि वे शार्दुल ठाकुर की गेंद पर आउट हो गए. यहां से मैच पलट गया और राजस्थान के बल्लेबाज दबाव में आ गए. छठे ओवर में संजू सैमसन को सैंटनर ने स्टंप कराकर राजस्थान को एक और झटका दे दिया.

जडेजा ने दिखाया कमाल

यहां रवींद्र जडेजा ने भी अपना कमाल दिखाना शुरु किया. पहले उन्होंने पारी के 9वें ओवर में राहुल त्रिपाठी को केदार जाधव के हाथो लपकावा कर अपना 99वां विकेट पूरा किया. इसके बाद जडेजा ने 100वां विकेट लेने में ज्यादा देर नहीं दिखाई और अपने अगले ओवर (पारी का 11वां ओवर) में ही जडेजा ने स्टीव स्मिथ को डीप मिड विकेट पर लपकवा लिया. इसके बाद जडेजा ने खुशी खुशी अपने हाथों से 100 का इशारा किया.

राजस्थान की थी शानदार वापसी लेकिन

11 ओवर में 79 रन पर आधी टीम के पवेलियन जाने के बाद भी राजस्थान के बल्लेबाज 20 ओवर में 151 रन का सम्मान जनक स्कोर खड़ा कर सके. इसके बाद भी राजस्थान ने चेन्नई को शुरआती झटके देते हुए पहले छह ओवर 24 पर चार अहम विकेट गिराकर मैच पर पकड़ मजबूत कर ली, जहां से धोनी ने अंबाती रायडू के साथ मिल कर चेन्नई को मैच में पूरी तरह से बनाए रखा. अंत में जडेजा ने भी बल्ले से कमाल दिखाते हुए 4 गेंदों पर एक छक्के के साथ 9 रन बनाए. आखिरी ओवर में धोनी के आउट होने के बाद सैंटनर ने अंतिम गेंद पर चेन्नई को सनसनीखेज जीत दिला दी.